सावधान! इन यम्मी गोलगप्पों का सच जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान !!


गोल गप्पे का नाम सुनते ही मुँह में पानी आने लगता है | चटाकेदार मसाला पानी उबले आलू से भरे गोल गप्पे बच्चों से लेकर बड़ो तक सभी बड़े चाव से खाते हैं |चटपटे पानी से भरे इन गोलगप्पों को हर अवसर के मेनू में शामिल किया जाता है |

golgappe

  • नाम सुनते ही मुंह में आने लगता है पानी।
  • अलग-अलग नामों से पुकारा जाता है।
  • हाथों से गूंथना थोड़ा मुश्किल होता है।

गोलगप्‍पे के अलग-अलग नाम

दिल्ली में बिना सूजी के गोल गप्पे खाये और विना चटपटा पानी पिए खरीददारी अधूरी लगती है |गुजरात के कुछ हिस्सों में इन्हे पकोड़ी कहा जाता है |यहाँ इनमे सेव और प्याज़ भी डाली जाती है |वहीं यह मुंबई में पानी पुरी के नाम से जाने जाते है और कोलकाता मे फुचके।इसका पानी पुड़िआ और हरी मिर्च से किया जाता है जो गाढ़ा होता है चटक पानी डालकर गोलगप्पे खाने का मज़ा ही कुछ और है लेकिन इसको बनाने की विधि शायद आप नहीं जानते हो | लेकिन आज हम आपको इसके बनाने का तरीका बताने बाले हैं जिसको देखकर शायद आप गोल गप्पे खाना छोड़ दें |और आपके मुँह में जो पानी आता है वो भी आना बंद हो जाएगा |

golgapppe

इस बार गोलगप्पे का नाम सुनकर आपके मुँह में पानी तो नहीं आएगा लेकिन उबकाई |जी हां गोलगप्पों के पीछे छिपी एक ऐसी सच्चाई जो अगर आपको पता चल जाये तो शायद आप अगली बार गोल गप्पे खाने की हिम्मत न कर सकें।तो देर किस बात की आइये जाने क्या है सच्चाई !

असल में हर गली और मोहल्ले में विकने वाले गोल गप्पे को जिस आते से त्यार किया जाता है उस आटे को हाथों से गोधना आसान नहीं है इसलिए इसे बनाने बाले कारीगर इसे पैरों से गूंधते हैं|पूरीओं को तलने  के लिए बार-बार एक तेल का इस्तेमाल किया जाता है जो आपके लिए बहुत ही हानिकारक साबित हो सकता है तो इतनी ज्यादा डीप फ्राई की हुई ये पुरीआं  आपकी सेहत के लिए सही नहीं हैं

मित्रों आज हमने आपको बताया की गोलगप्पे आपके लिए कैसे हानिकारक सिद्ध हो सकते हैं अगर आपको हमारा मैसेज मिल गया हो तो इसे दूसरों के साथ भी शेयर करें

source

 

 

 

What's Your Reaction?
LOL LOL
0
LOL
Scary Scary
0
Scary
OMG OMG
0
OMG
GEEKY GEEKY
0
GEEKY
WTF WTF
0
WTF
CUTE CUTE
0
CUTE
WIN WIN
0
WIN
FAIL FAIL
0
FAIL
LOVE LOVE
0
LOVE

सावधान! इन यम्मी गोलगप्पों का सच जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान !!

log in

reset password

Back to
log in